Posts

Showing posts from December, 2020

अर्थशास्त्र की शाखाएँ

Image
 अर्थशास्त्र की शाखाएँ -                    1 समष्टि अर्थशास्त्र (Macro Economics)                   2 व्यष्टि अर्थशास्त्र ( Micro Economics) व्यष्टि अर्थशास्त्र के तीन सिद्धांत हैं-   उपभोक्ता व्यवहार सिद्धांत, उत्पादक व्यवस्था सिद्धांत और कीमत सिद्धांत * उपभोक्ता व्यवहार सिद्धांत (consumer behavior theory) - इस सिद्धांत के अंतगर्त उपभोक्ता के उस उपभोग प्रतिरूप का अध्ययन किया जाता है। जिससे उसे अधिकत्तम संतुष्टि प्राप्त होती है। * उत्पादक व्यवस्था सिद्धान्त - (productive system theory) - इसमें यह अध्ययन किया जाता है कि उत्पादक यह निर्णय कैसे लेता है कि उसे किस वस्तु का उत्पादन करता है जिससे उसका अधिकतम लाभ हो सके। * कीमत सिद्धान्त  (price theory)- कीमत सिद्धान्त में यह अध्ययन किया जाता है कि बाजार में वस्तुओं की कीमत किस प्रकार निर्धारित होती है। समष्टि अर्थशास्त्र के महत्वपूर्ण घटक - सरकारी मुद्रा की पूर्ति बजट एवं साख नियंत्रण , रोजगार से सम्बंधित सिद्धान्त और बैंकिंग की अवधारणा , अर्थव्यवस्था में मुद्रास्फीति और अवस्फीति अंतराल से सम्बंधित । समष्टि अर्थशास्त्र में किसी देश के लिए,

अर्थशास्त्र परिचय

Image
 अर्थशास्त्र = अर्थ + शास्त्र जहाँ अर्थ का तात्पर्य धन से है और शस्त्र का अर्थ अध्ययन करना से है। अर्थशास्त्र को ही अंग्रेजी में economics कहा जाता है जो की ग्रीक भाषा के शब्द oikonomia से लिया गया है। यह शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है - oikos+nomas * यूनानी दार्शनिक अरस्तू ने अर्थशास्त्र को 'घरेलू प्रबंधन का विज्ञान' कहा है। * अर्थव्यवस्था एवं अर्थशास्त्र में क्या अंतर है? अर्थशास्त्र - अर्थशास्त्र सामाजिक विज्ञान की वह शाखा है, जिसके अंतर्गत वस्तुओं और सेवाओं के अध्ययन, वितरण, विनिमय और उपभोग का अध्ययन किया जाता है। अर्थशास्त्र - अर्थशास्त्र एक विज्ञान है जो मानव व्यवहार का अध्ययन उसकी आवश्यकताओं एवं उपलब्ध संसाधन के वैकल्पिक प्रयोग के मध्य सम्बन्ध का अध्ययन करता है।          * अर्थशास्त्र का इतिहास  अर्थशास्त्र का सबसे प्राचीन स्रोत कौटिल्य का ग्रन्थ 'अर्थशास्त्र' है जो की लगभग चौथी शताब्दी ईसापूर्व में लिखा गया । कौटिल्य ने अपने ग्रन्थ में अर्थ का सन्दर्भ धन से लिया है। किन्तु कौटिल्य का यह अर्थशास्त्र आधुनिक economics जैसा नहीं था। इसमें सामाजिक राजनितिक आर्थि