Posts

Showing posts from January, 2021

उत्तर बिहार के मैदान में पाई जाने वाली मिट्टी

Image
 1 - उप-हिमालय पर्वतपदीय मिट्टी  2 - तराई मिट्टी  3 - पुरानी जलोढ़ या बाँगर मिट्टी  4 - खादर मिट्टी  1. उप-हिमालय पर्वतपदीय मिट्टी - यह मिट्टी चंपारण के उत्तरी - पश्चिमी भाग में सोमेश्वर श्रेणी के आस पास पाई जाती है । पर्वतीय ढालों पर अधिक वर्षा के कारण मिट्टी की परत पतली होती है । यह काफी उपजाऊ मिट्टी होती है । यह चिकनी मिट्टी है , जिसका रंग हल्का भूरा एवं पीला है । इस क्षेत्र में वर्षा अधिक होने एवं मिट्टी का गठन हल्का होने से आर्द्रता अधिक पाई जाती है । इस मिट्टी मे जैविक पदार्थों (ह्यूमस ) की अधिकता पाई जाती है । इस मिट्टी में उपजाई जाने वाली प्रमुख फसलें धान , मक्का , जौ आदि हैं ।  2. तराई मिट्टी -  उप - हिमालय पर्वतपदीय मिट्टी के दक्षिणी भागों मे इस मिट्टी का विस्तार 3-8 किलोमीटर की पतली मिट्टी के रूप में पश्चिमी चंपारण से किशनगंज तक है । पर्वतपदीय क्षेत्र मे जल के सतत भूमि मे रिसते रहने से इस मिट्टी को पर्याप्त आर्द्रता मिलती है । इस मिट्टी मे कंकड़ के छोटे कण भी पाए जाते हैं तथा की जगहों पर दलदली भूमि का भी विकास हुआ है। इस मिट्टी का रंग हल्का भूरा या पीला होता है । इस मिट्ट

क्या है 1773 का रेगुलेटिंग एक्ट ?

Image
* यह भारत में ईस्ट इण्डिया  कंपनी के कार्यों को नियमित और नियंत्रित करने की दिशा में उठाया गया ब्रिटिश               सरकार का पहला कदम था।  * इसके द्वारा पहली बार कंपनी के प्रशासनिक और राजनैतिक कार्यों को मान्यता मिली।  * इस एक्ट के द्वारा भारत में केंद्रीय प्रशासन की नींव रखी गई।  अधिनियम की विशेषताएं  * इस अधिनियम द्वारा बंगाल के गवर्नर को बंगाल का गवर्नर जनरल पद नाम दिया गया एवं उसकी सहायता के लिए चार सदस्यीय कार्यकारी परिषद का गठन किया गया। बंगाल के प्रथम गवर्नर जनरल लार्ड वारेन हेस्टिंग थे।  * इसके द्वारा मद्रास एवं बम्बई के गवर्नर , बंगाल के गवर्नर जनरल के अधीन हो गए, जबकि पहले सभी प्रेसिडेंसी के गवर्नर एक दूसरे से अलग थे।  * अधिनियम के अन्तगर्त कलकत्ता में 1774 में एक उच्चतम न्ययालय की स्थापना की गई , जिसमे मुख्य न्यायधीश और तीन अन्य न्यायधीश थे।  * इस अधिनियम के तहत कंपनी के कर्मचारियों को निजी व्यापार करने और भारतीय लोगों से उपहार व् रिश्वत लेना प्रतिबंधित  कर दिया गया।  * इस अधिनियम के द्वारा , ब्रिटिश सरकार का कोर्ट ऑफ़ डायरेक्टर्स के माध्यम से कंपनी पर नियंत्रण सशक्त हो गया।

क्या है NSSO ?

Image
 NSSO की स्थापना 1950 मे की गई थी । यह भारत सरकार के केन्द्रीय सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय (Ministry of Statistics and Program Implementation )  के अधीन संगठन है।                                      सरकार ने मई, 2019 के आदेशानुसार NSSO और CSO के विलय के माध्यम से राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (National Statistical Office - NSO) के गठन को मंजूरी दी ।              अब,    NSSO + CSO = NSO कहते हैं ।    6th NCERT अध्याय 7 हमारा देश : भारत 6th NCERT -  New! अध्याय 1. सौरमंडल में पृथ्वी 6th NCERT अध्याय 2. ग्लोब : अक्षांश एवं देशांतर 6th NCERT अध्याय 4 : मानचित्र 6th NCERT अध्याय 5 : पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल अध्याय 6 : पृथ्वी के प्रमुख स्थलरूप 6th NCERT -  New! अध्याय- 3 पृथ्वी की गतियाँ 6th NCERT अध्याय- 8 भारत : जलवायु, वनस्पति तथा वन्य प्राणी -  New! ECONOMICS अर्थव्यवस्था के क्षेत्रक -  New! अर्थशास्त्र परिचय -  New! अर्थशास्त्र की शाखाएँ -  New! GS Some Important Question - 2 -  New! Some Important question - 1 -  New! HISTORY यूरोपियों का आगमन : फ्रांसीसी कम्पन

अर्थव्यवस्था के क्षेत्रक

Image
 अर्थव्यवस्था के क्षेत्रक (Sectors of Economy) - 1 - प्राथमिक क्षेत्रक                                                                          2 - द्वितीयक क्षेत्रक                                                                          3 - तृतीयक क्षेत्रक                                                                          4 - अन्य क्षेत्रक -------- चतुर्थ क्षेत्रक, पंचम क्षेत्रक, षष्ठ क्षेत्रक ।  प्राथमिक क्षेत्रक = 1°, द्वितीयक क्षेत्रक = 2° , तृतीयक क्षेत्रक = 3° से भी दर्शाया जाता है ।  प्राथमिक क्षेत्र - प्राकृतिक संसाधनों पर आधारित आर्थिक गतिविधि जैसे - कृषि , खनन , मतस्य पालन इत्यादि ।  इसमे हम संसाधनों का निर्माण , उत्पत्ति या प्राप्त कर रहे होते हैं ।  इस क्षेत्र के श्रमिकों को red कॉलर श्रमिक कहते हैं ।  द्वितीयक क्षेत्र -  इसे औद्योगिक क्षेत्र भी कहा जाता है। इसमें विनिर्माण , निर्माण, उद्योग इत्यादि आते हैं।  जैसे - car factory , आटा मिल , प्रसंस्कृत इत्यादि।  यह क्षेत्र विकसित और विस्तारित होगा वहां जहां अवसंरचना का विकास होगा जैसे बिजली होगी , अच्छी सड़के होंग