अर्थव्यवस्था के क्षेत्रक

 अर्थव्यवस्था के क्षेत्रक (Sectors of Economy) - 1 - प्राथमिक क्षेत्रक 

                                                                        2 - द्वितीयक क्षेत्रक 

                                                                        3 - तृतीयक क्षेत्रक 

                                                                        4 - अन्य क्षेत्रक -------- चतुर्थ क्षेत्रक, पंचम क्षेत्रक, षष्ठ क्षेत्रक । 

प्राथमिक क्षेत्रक = 1°, द्वितीयक क्षेत्रक = 2° , तृतीयक क्षेत्रक = 3° से भी दर्शाया जाता है । 

प्राथमिक क्षेत्र - प्राकृतिक संसाधनों पर आधारित आर्थिक गतिविधि जैसे - कृषि , खनन , मतस्य पालन इत्यादि । 

इसमे हम संसाधनों का निर्माण , उत्पत्ति या प्राप्त कर रहे होते हैं । 

इस क्षेत्र के श्रमिकों को red कॉलर श्रमिक कहते हैं । 

द्वितीयक क्षेत्र - इसे औद्योगिक क्षेत्र भी कहा जाता है। इसमें विनिर्माण , निर्माण, उद्योग इत्यादि आते हैं। 

जैसे - car factory , आटा मिल , प्रसंस्कृत इत्यादि। 

यह क्षेत्र विकसित और विस्तारित होगा वहां जहां अवसंरचना का विकास होगा जैसे बिजली होगी , अच्छी सड़के होंगी इत्यादि। 

[Core उद्योग - Core उद्योग उसे कहते हैं जिस पर सभी उद्योग निर्भर होते हैं। सामान्यतः 8 उद्योग core  उद्योग होते हैं - विद्युत , इस्पात , फर्टीलाइजर , कोयला , सीमेंट , पेट्रोलियम , प्राकृतिक गैस। ]


इस क्षेत्र में हम प्राथमिक क्षेत्र का उपयोग करके उसको प्रसंस्कृत या उन्नत कर रहे होते हैं। यानि प्राथमिक क्षेत्र पर आधारित क्षेत्र को द्वितीयक क्षेत्र कहते हैं। 

द्वितीयक क्षेत्र के श्रमिक -

1 कुशल श्रमिक जिसके पास तकनीकी ज्ञान हो उसे White कॉलर जॉब का श्रमिक कहा जाता है। 

2 अकुशल श्रमिक को ब्लू कॉलर जॉब का श्रमिक कहा जाता है। 

* प्राथमिक क्षेत्र के श्रमिक जो माइनिंग (जैसे कोयला खाद्दान ) में काम करते हैं तो उसे ब्लैक कॉलर  जॉब भी कह देते हैं। 

तृतीयक क्षेत्र - इसे सेवा क्षेत्र भी कहा जाता है।  इसमें मानव संसाधन का उपयोग करके आर्थिक गतिविधियों को 

प्रारम्भ या पूर्ण किया जाता है जहां मानवीय सेवाएं प्राप्त होती है।  जैसे - Banking , Retail Shop , Restaurant etc.

चतुर्थक क्षेत्र - इस क्षेत्र मे सेवाएं प्रौधोगिकी के माध्यम से प्राप्त की जाती है इसलिए इसे प्रौधोगिकी पर आधारित क्षेत्र कहा जाता है ।  

6th NCERT

HISTORY

Comments

Popular posts from this blog

अध्याय- 3 पृथ्वी की गतियाँ 6th NCERT

अध्याय 2. ग्लोब : अक्षांश एवं देशांतर 6th NCERT

अध्याय 7 हमारा देश : भारत 6th NCERT